Lagan More Man Ki Naushad Lyrics

Album Name Babul (1950)
Artist Naushad
Track Name Lagan More Man Ki
Music Naushad
Label Saregama
Release Year 1950
Duration 03:13
Release Date 1950-12-31

Lagan More Man Ki Lyrics

लगन मोरे मन की बलम नहीं जाने
लगन मोरे मन की बलम नहीं जाने
बलम नहीं जाने, सजन नहीं जाने
लगन मोरे मन की बलम नहीं जाने

लाज की मारी मैं तो मुँह से ना बोलूँ, मुँह से ना बोलूँ
भेद किसी से कभी दिल के ना खोलूँ, दिल के ना खोलूँ
ठेस जिया पे लागे, ठेस जिया पे लागे
छुप-छुप रो लूँ, छुप-छुप रो लूँ

तड़प बिरहन की बलम नहीं जाने
बलम नहीं जाने, सजन नहीं जाने
लगन मोरे मन की बलम नहीं जाने

डूब ना जाएँ कहीं आशा के तारे, आशा के तारे
नैन चुरा के, हाय, सैयाँ हमारे, सैयाँ हमारे
नेहा लगाने गए, नेहा लगाने गए
सौतन द्वारे, सौतन द्वारे

क़दर निरधन की बलम नहीं जाने
बलम नहीं जाने, सजन नहीं जाने
लगन मोरे मन की बलम नहीं जाने

Related Posts