Dard Bhara Dil Bhar Bhar Aaye Nashad Lyrics

Album Name Baradari
Artist Nashad
Track Name Dard Bhara Dil Bhar Bhar Aaye
Music Nashad
Label Saregama
Release Year 1955
Duration 03:27
Release Date 1955-01-01

Dard Bhara Dil Bhar Bhar Aaye Lyrics

दर्द भरा दिल भर-भर आए
…भर-भर आए, हो

दर्द भरा दिल भर-भर आए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

हो-हो, दर्द भरा दिल भर-भर आए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

लाज वफ़ा की कैसे बचाऊँ?
लाज वफ़ा की कैसे बचाऊँ?
दिल से मैं कितना उनको भुलाऊँ

और भी उनकी याद सताए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

हो गए टुकड़े मेरे दिल के
रह गए अरमाँ ख़ाक में मिल के

ख़ूब मज़े उल्फ़त के उठाए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

आह ना करना, आँसू पीना
आह ना करना, आँसू पीना
खेल नहीं मर-मर के जीना

जैसे कलेजा निकला आए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

ओ-ओ, दर्द भरा दिल भर-भर आए
सब्र का दामन छूट ना जाए
दर्द भरा दिल…

Related Posts